web analytics
Wednesday, October 17News That Matters

भारत का प्रसिद्ध पर्यटन स्थल मनाली में बादल फटने से हुआ नुकसान

भारत के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल मनाली में बादल फटने से वहां के नालों में बाढ़ आ गई। जिसकी चपेट में सड़क पर खड़े वाहन भी आ गए। बताया जाता है कि, चपेट में आने वाले वाहनों की संख्या 6 है। जिनमें से दो पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गए हैं, और बाकी चार में मामूली सा नुकसान हुआ है। घटना के बाद SDM मनाली रमन घससंगी अपनी टीम के साथ घटनास्थल पर पहुंचकर वहां पर हुए नुकसान का जायजा लिया।

यह हादसा रात को करीब 3:00 बजे हुआ। जिसने गलून और कशेरी गांवों को आपस में जोड़ने वाले पुल को भी अपनी चपेट में ले लिया। ऐसी तेज बारिश के चलते यहां के पांगण क्षेत्र व बड़ाग्रां पावर प्रोजेक्ट के साथ-साथ कंचनजंगा विद्युत परियोजना के कुछ हिस्से भी क्षतिग्रस्त हो गए।
डीसी कुल्लू यूनुस ने बताया कि, बाढ़ के कारण होने वाले नुकसान का आकलन राजस्व विभाग कर रहा है। दो वाहनों के पूर्णता क्षतिग्रस्त होने, NH प्रभावित होने जिससे यातायात बहाल हो गया है। कुल्लू यूनुस ने यह भी बताया कि, मौसम को देखते जिले में अलर्ट जारी किया गया है, की लोग नदियों नालों की तरफ ना जाएं, ताकि किसी भी प्रकार का नुकसान का सामना ना करना पड़े।



प्रदेश में बरसात रुकने का नाम ही नहीं ले रही है। जिससे बीते 24 घंटों में शिमला जैसे शहरों में 13 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई है। इसके अतिरिक्त डलहौजी में 18 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई है। मौसम विभाग में चेतावनी दी है कि, आने वाले 21 और 22 जुलाई को फिर से भारी बारिश होगी, जिससे लोगों को और भी कठिनाइयों का सामना करना पड़ सकता है। ऐसी भारी बारिश के चलते बागवानों की मुश्किलें भी बढ़ रही हैं।



बागवानों में लगे सेब को धूप ना मिलने के कारण ना तो उनका साइज बढ़ रहा है और ना ही उनका कलर चेंज हो रहा है। ऐसे में बागवानी विशेषज्ञ का यह कहना है कि, यदि 25 जुलाई के बाद भी ऐसा ही मौसम रहा तो लोअर बेल्ट में रहने वाले बागवानों को इससे बहुत बड़ा नुकसान होगा। क्योंकि सेब के बड़े आकार के लिए धूप का रहना बहुत ही जरूरी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *